केन्या की संसद में घुसी गुस्साई भीड़, जानें वजह

0
  • भारतीयों के लिए एडवाइजरी

नैरोबी : केन्या की संसद में गत दिनों एक अजीब वाकया हुआ। केन्या में सरकार द्वारा नए टैक्स लगाने से जनता काफी गुस्से में है और यहां पर टैक्स का बोझ बढ़ाए जाने से गुस्साए हजारों लोग मंगलवार को संसद परिसर में घुस गए।

 

 

प्रदर्शनकारियों का गुस्सा इतने पर ही ठंडा नहीं हुआ और उन्होंने संसद भवन के एक हिस्से में आग लगा दी है। इस हिंसक घटना को देखते हुए भारतीय दूतावास ने अपने नागरिकों को अलर्ट किया है।

 

 

खबरों के अनुसार सांसदों को संसद भवन से सुरक्षित निकाला जा रहा है। सांसदों ने हाल ही में एक विवादास्पद विधेयक पारित किया था जिसके तहत नए कर लगाए जाएंगे। केन्या में सरकार द्वारा नए टैक्स लगाने से जनता काफी गुस्से में है और बड़े स्तर पर विरोध प्रदर्शन आयोजित किए जा रहे हैं।

 

 

इसी कड़ी में मंगलवार को भीड़ संसद में प्रवेश कर गई और वहां आगजनी की। इसके बाद सांसदों को संसद भवन से सुरक्षित निकाला गया। प्रदर्शनकारी नए टैक्स का विरोध कर रहे हैं जिससे डायपर जैसी वस्तुओं की कीमत बढ़ जाएगी।

 

 

बराक ओबामा की सौतेली बहन भी प्रदर्शनकारियों में शामिल थीं : रॉयटर्स के अनुसार पूर्व अमेरिकी राष्ट्रपति बराक ओबामा की सौतेली बहन और केन्याई एक्टिविस्ट औमा ओबामा भी उन प्रदर्शनकारियों में शामिल थीं जिन पर मंगलवार को नैरोबी में संसद भवन के बाहर प्रदर्शन के दौरान आंसू गैस छोड़ी गई। नैरोबी में प्रदर्शन के दौरान प्रदर्शनकारियों और पुलिस से झड़प में 10 लोगों की मौत हुई है और गोलीबारी में 50 लोग घायल हुए हैं।

 

 

नए टैक्स से जनता है नाराज :  प्रदर्शनकारी नए टैक्स का विरोध कर रहे हैं जिसमें ईको-लेवी भी शामिल है। इससे डायपर जैसी वस्तुओं की कीमत बढ़ जाएगी। हालांकि ब्रेड पर कर लगाने का प्रस्ताव जनता के विरोध के बाद हटा दिया गया था।

 

भारतीय दूतावास ने किया अपने नागरिकों को अलर्ट : भाषा के अनुसार केन्या में भारतीय उच्चायोग ने मंगलवार को भारतीय नागरिकों को अफ्रीकी राष्ट्र में हिंसक विरोध प्रदर्शन से उत्पन्न तनावपूर्ण स्थिति के मद्देनजर अत्यधिक सावधानी बरतने की सलाह दी है। केन्या की राजधानी नैरोबी और देश के अन्य शहरों में केन्याई संसद द्वारा करों को बढ़ाने के प्रस्ताव वाले एक विवादास्पद विधेयक को पारित करने के बाद हिंसक झड़पें और प्रदर्शन हुए।

 

 

भारतीय उच्चायोग ने एक परामर्श में कहा कि मौजूदा तनावपूर्ण स्थिति को देखते हुए केन्या में सभी भारतीयों को अत्यधिक सावधानी बरतने, गैर-जरूरी आवाजाही को प्रतिबंधित करने और स्थिति सामान्य होने तक विरोध और हिंसा प्रभावित क्षेत्रों से दूर रहने की सलाह दी जाती है। एक आधिकारिक अनुमान के अनुसार वर्तमान में लगभग 20,000 भारतीय केन्या में रह रहे हैं।

 

AngeloGok

About Author

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may have missed